शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

भारतीय संविधान मे मौलिक अधिकार | fundamental rights of the Indian citizen - all the best gk


hello friends welcome to all the best GK. दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे. भारतीय संविधान मे मौलिक अधिकार fundamental rights of the Indian citizen. तो दोस्तों शुरू करते हैं आज की हमारी पोस्ट भारत देश के संविधान में मौलिक अधिकार. fundamental rights of India.

भारतीय संविधान मे मौलिक अधिकार । fundamental rights of the Indian citizen


मौलिक अधिकारों ( Fundamental rights ) को संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान से लिया गया है.
☆ इसका वर्णन संविधान के भाग 3 में ( अनुच्छेद 12 से अनुच्छेद 35 ) है. संविधान के भाग 3 को भारत का अधिकार पत्र ( magnacarta ) कहा जाता है. इसे मूल अधिकारों का जन्मदाता भी कहा जाता है.
मौलिक अधिकारों ( fundamental rights ) में संशोधन हो सकता है एवं राष्ट्रीय आपात के दौरान (अनुच्छेद 352 ) जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार को छोड़कर अन्य मौलिक अधिकारों को स्थगित किया जा सकता है.

Fundamental rights of the Indian citizen | all the best gk
Fundamental rightof the Indian citizen 


What is fundamental rights


☆ प्रत्येक व्यक्ति के सर्वांगीण विकास ( मानसिक, भौतिक, शारीरिक, आध्यात्मिक और नैतिक विकास ) के लिए कुछ अधिकार दिए जाने आवश्यक होते हैं. इनके अभाव में व्यक्ति का समग्र विकास रूक जाता है. ये अधिकार ही मौलिक अधिकार कहलाते हैं. अर्थात व्यक्ति के व्यक्तित्व के विकास के लिए राज्य द्वारा स्थापित की गई ऐसी स्थितियां जिन्हे समाज मान्यता प्रदान करता है, उसे मूल अधिकार कहते हैं.
☆ आधारभूत स्वतंत्रता और सुविधाओं को भी "मौलिक अधिकार" कहा जाता है.
        प्रो● लास्की - "अधिकार ( rights ) सामाजिक जीवन कि वे परिस्थितियां हैं जिनके बिना व्यक्ति प्रायः अपना विकास नहीं कर सकता|"
भारतीय संविधान ( Indian constitution ) के अनुसार मौलिक अधिकार वे अधिकार हैं जिन्हें मानना हमारी संघीय सरकार और राज्य सरकारों के लिए अनिवार्य हैं. यदि सरकारें इन अधिकारों का हनन करती हैं तो इनके विरुद्ध न्यायालय में अपील की जा सकती है इन अधिकारों में राज्य द्वारा भी हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता.
☆ भारतीय संविधान के भाग 3 में अधिकारों का वर्गीकरण भी दो श्रेणियों में किया जा सकता है -
( 1 ) सकारात्मक अधिकार = अनुच्छेद 19 (1) अनुच्छेद 21(a) अनुच्छेद 25 (1) अनुच्छेद 29 अनुच्छेद 30 और अनुच्छेद 32 की भाषा सकारात्मक है इनके जरिए व्यक्तियों / नागरिकों के लिए अधिकारों का सृजन किया गया है और उन्हें संरक्षण प्रदान किया गया है.
( 2 ) नकारात्मक अधिकार = अनुच्छेद 14 अनुच्छेद 15 (2) अनुच्छेद 16 (2) अनुच्छेद 18 (1) अनुच्छेद 20 अनुच्छेद 21 अनुच्छेद 22 (1) अनुच्छेद 27 और अनुच्छेद 28 (1) की भाषा नकारात्मक है. इनके जरिए राज्यों को आदेश दिया गया है कि वह विशिष्ट प्रकार का कार्य न करें जो अपनी प्रकृति में भेदभावकारी अथवा नकारात्मक है.

Most important
1. भारत के संवैधानिक इतिहास के questions
2. कंप्यूटर से संबंधित प्रश्न उत्तर
3. philosophy meaning

मौलिक अधिकारों की शुरुआत [ the beginning of fundamental rights ]


दोस्तों विश्व में मूल अधिकारों की शुरुआत 1215 ई0 में ब्रिटेन सम्राट जॉन द्वितीय द्वारा सर्वप्रथम मैग्नाकार्टा नामक अधिकार पत्र जारी कर किसानों को अधिकार देने के साथ ही की गई. उसके बाद 1789 ई0 में फ्रांसीसी क्रांति में 3 नारे लगाए गए - "स्वतंत्रता, समानता, एवं भातृत्व" . लेकिन मौलिक अधिकारों की लिखित अभिव्यक्ति पूरे विश्व में सर्वप्रथम अमेरिका ने की.

भारत में नागरिकों के 6 अधिकार (Fundamental rights of India )


☆ भारतीय संविधान के भाग 3 द्वारा नागरिकों को 7 मौलिक अधिकार प्रदान किए गए थे परंतु सन 1978 के 44वें  संवैधानिक संशोधन द्वारा संपत्ति के अधिकार को मौलिक अधिकार के रूप में समाप्त कर दिया गया है. संपत्ति के अधिकार का अस्तित्व अब केवल एक साधारण कानूनी अधिकार के रूप में ही रह गया है. अब भारतीय नागरिकों को निम्न 6 मौलिक अधिकार प्राप्त है ----

fundamental rights of india | all the best gk
fundamental rights of india  



[ 1 ] समानता का अधिकार ( right to equality )

☆ दोस्तों भारतीय संविधान के अनुच्छेद 14 से लेकर 18 तक निम्न पांच प्रकार की समानता ओं का उल्लेख है.
a. विधि के समक्ष समानता --- अनुच्छेद 14 के अनुसार भारत राज्य क्षेत्र में किसी भी व्यक्ति को विधि के समक्ष समानता से अथवा कानून के समान सरंक्षण से राज्य द्वारा वंचित नहीं किया जाएगा. इसका तात्पर्य है कि कानून की दृष्टि से सब नागरिक समान है. कानून की दृष्टि में ना कोई छोटा है ना कोई बड़ा है. ना कोई धनवान है और न ही कोई निर्धन है अर्थात कानून के क्षेत्र में किसी के साथ भी भेदभाव नहीं किया जाएगा. सबको समान रूप से विधि का संरक्षण प्राप्त है यह ब्रिटेन से ली गई एक नकारात्मक संकल्पना है.
☆ विधि का शासन --- विधि के शासन की संकल्पना का आविर्भाव पश्चिमी उदारवादी चिंतन के साथ होता है. इंदिरा साहनी द्वितीय वाद 2000 में सर्वोच्च न्यायालय ( supreme Court ) ने प्रतिष्ठा और अवसर की समानता को आधारित लक्ष्मण सर्वोच्च न्यायालय का मानना है कि अनुच्छेद 14 में उल्लिखित विधि का शासन ही संविधान    ( constitution ) का मूल तत्व है. इसलिए इसे किसी भी तरह नहीं बदला जा सकता है. अगर संसद ( parliament ) ऐसा भी कोई भी संशोधन करती हैं. जिससे विधि के शासन की संकल्पना पर प्रतिकूल असर पड़ता है तो न्यायालय उसकी संवैधानिकता का परीक्षण करती हुई उसे अभिमानी घोषित कर सकती हैं.
☆ विधि के शासन से आशय --- इस व्यवस्था में कानून की सर्वोच्च होती हैं. प्रत्येक व्यक्ति एवं संस्थाओं अपने अधिकार और दायित्व कानून से प्राप्त करते हैं और उसी के तहत संचालित होते हैं. A.V. डायसी के अनुसार विधि के समक्ष समता का विचार विधि का शासन के सिद्धांत का मूल तत्व है.
☆ विधि के समान सरंक्षण की संकल्पना --- अमेरिका से विधि के समान संरक्षण की संकल्पना ली गई है जो एक सकारात्मक संकल्पना है. इसका मतलब है - समान परिस्थितियों में रहने वाले व्यक्ति समूह एक समान नियमों से शासित हैं, लेकिन यदि विभिन्न व्यक्ति विभिन्न परिस्थितियों में हो और परिस्थितियां न्यायोचित हो तो राज्य विभिन्न व्यक्ति के साथ भिन्न-भिन्न व्यवहार कर सकता हैं.
☆ नैसर्गिक न्याय --- न्यायपालिका नैसर्गिक न्याय के अनुपालन को भी सुनिश्चित करती हैं. इसका मतलब यह हुआ कि यदि कोई भी व्यक्ति किसी निर्णय से प्रभावित होता है तो निर्णय से पूर्व उसे अपना पक्ष रखने का अधिकार है.
☆ नैसर्गिक न्याय की संकल्पना अनुच्छेद 14 में निहित हैं.
b. सामाजिक समानता --- अनुच्छेद 15 में व्यक्ति के विरुद्ध धर्म, वंश, जाति, लिंग, जन्म स्थान अथवा इस में से किसी एक से आधार पर कोई भेदभाव नहीं रहेगा.
c. सरकारी नौकरियों के लिए अवसर की समानता - ( अनुच्छेद 16 )
d. अस्पृश्यता का उन्मूलन --- ( अनुच्छेद 17 )

2. स्वतंत्रता का अधिकार [ right to freedom ]

☆ भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 से लेकर 22 तक निम्न प्रकार के सत्ता का अधिकार शामिल है.
a. विचार एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता -- अनुच्छेद 19 (1) क में इसका उल्लेख किया गया है. इसमें प्रेस की स्वतंत्रता भी निहित है.
b. नि: शास्त्र एवं शांतिपूर्ण सभा करने की स्वतंत्रता -- संविधान के अनुच्छेद 19 (1) क के अनुसार
c. समुदाया संघ बनाने की स्वतंत्रता -- संविधान के अनुच्छेद 19 (1) ग के अनुसार समुदाय व संघ बनाने की स्वतंत्रता देश के नागरिकों को.
d. देश के किसी भी भाग में भ्रमण या निवास की स्वतंत्रता -- भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 (1) घ और च के अनुसार देश के सभी नागरिकों को देश के किसी भी भाग में में भ्रमण करने और निवास करने की स्वतंत्रता है.
e. व्यवसाय की स्वतंत्रता -- ( संविधान के अनुच्छेद 19 16 के अनुसार )
☆ युक्तियुक्त निर्बंधन -  युक्तियुक्त निर्बंधन की संकल्पना अनुच्छेद 19 द्वारा प्रदत्त स्वतंत्रता के अधिकार से जुड़ी हुई हैं. युक्तियुक्त निर्बंधन शब्द की व्याख्या सुप्रीम कोर्ट ने 1950 के गोपाल वाद में स्पष्ट की है. संविधान के तहत व्यक्तियों और नागरिकों को जो अधिकार प्रदान किए गए हैं. वे असीमित और अमर्यादित नहीं है. भारत का संविधान विश्व का अकेला ऐसा संविधान हैं जो व्यक्तियों और नागरिकों के अधिकारों के उल्लेख के साथ साथ इस पर युक्तियुक्त निर्बंधन लगाने की भी अनुमति देता है अनुच्छेद 23 से अनुच्छेद 30 तक विभिन्न संवैधानिक प्रावधानों से युक्तियुक्त निर्बंधन की संकल्पना निहित हैं.
f. आपराधिक सिद्धि के विषय में सुरक्षा -- अनुच्छेद 20 के अनुसार किसी व्यक्ति को तब तक अपराधी नहीं ठहराया जा सकता जब तक उसने अपराध के समय में लागू किसी कानून का उल्लंघन ना किया हो उसे किसी एक अपराध के लिए एक बार से अधिक दंड दिया जा सकता है और न ही किसी व्यक्ति को स्वयं अपने विरुद्ध साक्ष्य होने के लिए बाध्य किया जा सकता है.
☆ चुप रहने का अधिकार -- मानवाधिकारों में चुप रहने का अधिकार ( right to silence ) भी शामिल है जो संविधान के अनुच्छेद 20 (3) के तहत नागरिकों को प्रदान किया गया है. चुप रहने का अधिकार का मतलब है कि किसी भी संदिग्ध आरोपी व्यक्ति को अपने खिलाफ किसी तरह का साक्ष्य देने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है और अगर संदिग्ध आरोपी व्यक्ति पूछताछ के दौरान चुप रहता है तो उसकी चुप्पी का कोई भी उल्टा मतलब नहीं निकाला जा सकता है.
☆ वर्ष 2010 में सुप्रीम कोर्ट ने नारको टेस्ट ब्रेन मैपिंग एवं लाइव डिटेक्टर टेस्ट को अनुच्छेद 20 (3) का उल्लंघन बताया था.
g. जीवन और शरीर रक्षण की स्वतंत्रता -- अनुच्छेद 21 विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया को छेड़छाड़ अन्य किसी प्रकार से किसी व्यक्ति को उसके जीवन या उसकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता से वंचित नहीं किया जाएगा. जीवन के अधिकार में आत्महत्या का अधिकार शामिल नहीं है. ( ज्ञानकोर  वाद )
☆ अरूणा शानबाग बाद में उच्चतम न्यायालय ने निर्णय दिया कि "जीवन के अधिकार में आत्महत्या शामिल नहीं है"
☆ इच्छामृत्यु ( Euthanasia ) द्वारा जीवन को समाप्त करने का अधिकार नहीं है . जैन धर्मावलंबी "संथारा" के द्वारा इच्छा मृत्यु का प्रयास करते हैं. राजस्थान उच्च न्यायालय के अनुसार संथारा आत्महत्या का प्रयास है. इसलिए दंडनीय अपराध है. परंतु उच्चतम न्यायालय ने इस निर्णय पर फिलहाल रोक लगा दी है. सर्वोच्च न्यायालय ने 9 मार्च 2018 को फैसला दिया कि कोमा में जा चुके या मौत की कगार पर पहुंच चुके लोगों के लिए निष्क्रिय इच्छामृत्यु और इच्छा मृत्यु के लिए लिखी गई वसीयत कानूनी रूप से मान्य होगी.
☆ निजता का अधिकार ( right to privacy ) -- 24 अगस्त 2017 को सर्वोच्च न्यायालय के 9 सदस्य न्याय पीठ ने निजता के अधिकार को मूल अधिकार स्वीकार किया. अब विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया के द्वारा ही किसी व्यक्ति के निजी मामलों या बायोमैट्रिक डाटा उसकी अनुमति के आधार पर ही दिया जा सकता है. यह live to dignity  ( सम्मान के लिए जीना ) के अधिकार में शामिल हैं.
☆ समलैंगिकता - 6 सितंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय के अनुसार समलैंगिक संबंध को निजता के अधिकार संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत मानते हुए इसे अपराध मानने वाली भारतीय दंड संहिता के अध्याय 16th की धारा 370 से बाहर कर दिया है.अर्थात कोई भी व्यक्ति समलैंगिक संबंध बना सकता है.
h. गिरफ्तारी व बंदीकरण के विरूद्ध सुरक्षा -- संविधान के अनुच्छेद 22 द्वारा बंदी बनाए जाने वाले व्यक्ति को कुछ संवैधानिक अधिकार प्रदान किए गए हैं. इसके अनुसार किसी व्यक्ति को बंदी बनाए जाने के पश्चात यह आवश्यक होगा कि उसे बंदी बनाए जाने के कारण बताया जाए तथा गिरफ्तारी के 24 घंटे के भीतर ही निकटतम न्यायाधीश के सम्मुख उपस्थित किया जाए. निवारक निरोध का उद्देश्य व्यक्ति को अपराध के लिए दंड नहीं वरन उसे अपराध करने से रोकना है.
☆ अनुच्छेद 22 (क) के खंड 4 के अनुसार निवारण निवारक निरोध का तात्पर्य है "किसी प्रकार का अपराध किए जाने से पूर्व और किसी न्यायिक प्रक्रिया के नजर बंदी" निवारक निरोध व्यवस्था के अंतर्गत जो भी कानून बनाए जाए गए, उनमें संभवतया सबसे अधिक कठोर कानून आतंकवादी और विध्वंसात्मक गतिविधि निरोध अधिनियम या टाडा था.

 ये भी पढ़ें
1. भूगोल के प्रश्न उत्तर
2. भूगोल के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर
3. Bharat ke rashtrapati kee shaktiya


3. शोषण के विरुद्ध अधिकार [ right against exploitation ]
☆ दोस्तों भारत का संविधान भारत में एक जन कल्याणकारी राज्य की स्थापना करता है. संविधान के अनुच्छेद 23 व 24 के अनुसार कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति का शोषण नहीं कर सकेगा. इस संबंध में निम्न व्यवस्था की गई है -----------
A. मनुष्य का क्रय विक्रय निषेध -- संविधान के अनुच्छेद 23 (1) के अनुसार मनुष्य, स्त्रियों और बच्चों के क्रय-विक्रय को दंडनीय अपराध माना गया है.
B. बेगार का निषेध -- संविधान के अनुच्छेद 23 (3) के अनुसार किसी व्यक्ति से बेकार या बलपूर्वक काम लेना दंडनीय अपराध माना गया है.
C.बाल श्रम का निषेध --- संविधान के अनुच्छेद 24 के अनुसार 14 वर्ष तक के आयु वाले बालकों को कारखानों खदानों या किसी जोखिम भरे काम के लिए नौकर नहीं रखा जा सकेगा.
● 13 मई 2015 को केंद्रीय कैबिनेट ने बाल श्रम कानून में संशोधन को मंजूरी देते हुए 14 वर्ष की आयु वर्ग के बालकों को पारिवारिक कारोबार में काम करने की छूट दी गई है.

4. धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार [ right to religious freedom ]

☆ भारत का संविधान भारत को धर्मनिरपेक्ष राज्य घोषित करता है. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 25 से 28 द्वारा सभी व्यक्तियों को चाहे वे विदेशी हो या भारतीय धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार प्रदान किया गया है. इस अधिकार के अंतर्गत निम्न स्वतंत्रता प्रदान की गई है ----
A. धार्मिक आचरण एवं प्रचार की स्वतंत्रता संविधान के अनुच्छेद 25 के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को अपने अंतःकरण की मान्यता के अनुसार किसी धर्म को अबाध रूप से मानने, उपासना करने और उसके प्रचार की पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान की गई है.
☆ 1977 के स्टेनस्लास बनाम मध्यप्रदेश वाद में सर्वोच्च न्यायालय ने वादी की दलील को अस्वीकार कर दिया कि धर्म के प्रचार की स्वतंत्रता के अंतर्गत धर्म परिवर्तन का अधिकार भी शामिल है इस संदर्भ में वर्तमान निम्न स्थिति है --( अ ) यदि कोई व्यक्ति अपनी इच्छा से  धर्म परिवर्तन करता है तो उसे इस बात की छूट है. ( ब ) यदि कोई व्यक्ति या संस्था किसी भय, दबाव या प्रलोभन के द्वारा किसी के धर्म परिवर्तन कराने की कोशिश करता है तो भारत का संविधान इस बात की अनुमति नहीं देता है.
B. धार्मिक कार्यों के प्रबंधन की स्वतंत्रता -- संविधान के अनुच्छेद 26 के द्वारा
C. धर्म विशेष की उन्नति हेतु कर देने अथवा ना देने की स्वतंत्रता -- संविधान के अनुच्छेद 27 के अनुसार
D. व्यक्तिगत शिक्षण संस्थाओं में धार्मिक शिक्षा देने की स्वतंत्रता --- अनुच्छेद 28 की व्यवस्था के अनुसार, किसी राजकीय शिक्षण संस्था में किसी धर्म की शिक्षा नहीं दी जा सकती. परंतु सरकार द्वारा मान्यता अथवा सहायता प्राप्त व्यक्तिगत शिक्षण संस्थाएं जो गैर सरकारी धन से स्थापित हुई में धार्मिक शिक्षा दी जा सकेगी, परंतु ऐसी संस्थाओं में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को उस धार्मिक शिक्षा या उपासना प्रार्थना में भाग लेने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता.
5. संस्कृति और शिक्षा संबंधी अधिकार [ culture and education rights ]

☆ दोस्तों भारतीय संविधान के अनुच्छेद 29 और 30 के द्वारा भारत के सभी नागरिकों को संस्कृति और शिक्षा संबंधी 2 अधिकार {culture and education rights } प्रदान किए गए हैं -----
A. अल्पसंख्यकों के हितों का सरंक्षण -- संविधान के अनुच्छेद 29 के अनुसार नागरिकों को अपनी भाषा लिपि या संस्कृति को सुरक्षित रखने का पूर्ण अधिकार है.
B. अल्पसंख्यकों को अपनी शिक्षण संस्थाओं की स्थापना और प्रशासन का अधिकार -- संविधान के अनुच्छेद 30 के अनुसार
6. संवैधानिक उपचारों का अधिकार [ right to constitutional remedies ]

☆ दोस्तों भारतीय संविधान के अनुच्छेद 32 से 35 के अंतर्गत संवैधानिक उपचारों का अधिकार [ right to constitutional remedies ] उल्लेख किया गया है.
☆ अनुच्छेद 32 से 35 के अंतर्गत प्रत्येक नागरिक को यह अधिकार प्रदान किया गया है कि हम मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए उच्च न्यायालय की शरण ले सकता है.
☆ डॉ0 अंबेडकर का संविधान का हृदय आत्मा है.
☆ नागरिकों के मौलिक अधिकारों ( Fundamental rights ) की रक्षा के लिए न्यायालयों द्वारा निम्न प्रकार के लेख जारी किए जा सकते हैं -----
A.  बंदी प्रत्यक्षीकरण लेख ( habeas corpus ) - यहां एक लैटिन शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ होता है , सशरीर उपस्थित होना । इस  लेख द्वारा न्यायालय बंदी बनाए गए व्यक्ति की प्रार्थना पर अपने समक्ष उपस्थित करने या उसे बंदी बनाने का कारण बताएं जाने का आदेश दे सकता हैं. यदि न्यायालय के विचार में संबंधित व्यक्ति को बंदी बनाए जाने के पर्याप्त कारण नहीं है या उसे कानून के विरुद्ध बंदी बनाया गया है तो न्यायालय उस व्यक्ति को तुरंत रिहा करने का आदेश दे सकता हूं.
B. परमादेश लेख ( mandamus ) --- यह एक लैटिन शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ है "आज्ञा देना" | जब कोई सरकारी विभाग या अधिकारी अपने सार्वजनिक कर्तव्यों का पालन नहीं कर रहा है जिसके परिणाम स्वरूप किसी व्यक्ति के मौलिक अधिकार का हनन होता है तो न्यायालय इस लेख द्वारा उस विभाग अधिकारी को कर्तव्य पालन हेतु आदेश दे सकता है.
C.  प्रतिवेदन लेख ( prohibition ) --- यह एक लैटिन शब्द है इस लेख का अर्थ है "रोकना" | यह लेख सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय द्वारा अपने अधीनस्थ न्यायालय को जारी करते हुए आदेश दिया जाता है कि वह उन मुकदमों की सुनवाई न करे जो उसके अधिकार क्षेत्र के बाहर है.
D.  प्रेक्षण लेख ( certiorari ) --- यह एक लैटिन शब्द हैं इस लेख का अर्थ है पूर्णतया सूचित करना या मंगा लेना इस आज्ञा पत्र द्वारा उच्चतम न्यायालय उच्च न्यायालय को उच्च न्यायालय अपने अधीनस्थ न्यायालयों को किसी मुकदमे को सभी सूचनाओं के साथ उच्च न्यायालय में भेजने की आज्ञा देते हैं.
E. अधिकार पृच्छा लेक ( Quo - warranto ) --- इस का अर्थ है "किस अधिकार से" जब कोई व्यक्ति किसी सार्वजनिक पद को अवैधानिक तरीके से या जबरदस्ती प्रयास कर लेता है तो न्यायालय इस लेख द्वारा उसके विरुद्ध पद को खाली कर देने का आदेश निर्गत कर सकता है.
--------------------------------------------------------------------------------------
संपत्ति का अधिकार [ right to property ] :  कानूनी अधिकार --- संविधान के परिवर्तन के समय संपत्ति के अधिकार को मूल अधिकार के रूप में मान्यता दी गई थी और संविधान के अनुच्छेद 19 (1) ( च ) तथा 31 में इस संबंध में प्रावधान किया गया था. संविधान के पहले, चौथे, पच्चीसवें और 19वें संशोधन द्वारा संपत्ति के मूल अधिकार की सीमा को काफी हद तक कम कर दिया और 44 से संविधान संशोधन द्वारा संविधान के अनुच्छेद 19 (1) ( च ) तथा 31 को निरस्त करके संपत्ति के मूल अधिकार को समाप्त कर दिया गया. और इसी संशोधन द्वारा संविधान में अनुच्छेद 300 (क) को जोड़कर संपत्ति के अधिकार को कानूनी ( विधिक ) अधिकार बना दिया गया. इस अनुच्छेद के अनुसार संपत्ति का अधिकार अब केवल कानूनी अधिकार है , जिसका तात्पर्य है कि राज्य को किसी ऐसे व्यक्ति को संपत्ति को लेने का अधिकार हैं लेकिन ऐसा करने के लिए उसे किसी विधि का प्राधिकार प्राप्त होना चाहिए.


  मौलिक अधिकारों के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य -

fundamental rights in hindi | all the best gk
fundamental rights in hindi


🔥 दोस्तों 10 दिसंबर 1948 को UNO के तत्वाधान में एलिनोर  रुजवेल्ड के नेतृत्व में 30 सार्वभौमिक अधिकारों की घोषणा की गई.
🔥 राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग - इसकी स्थापना अक्टूबर 1993 में की गई. इसके प्रथम अध्यक्ष श्री रंगनाथ मिश्र थे.
🔥 भारत में पहली बार मौलिक अधिकारों की मांग बाल गंगाधर तिलक ने अपने स्वराज विधेयक. ( 1895 ) में की थी.
🔥 पहली बार मौलिक अधिकारों का वर्णन मोतीलाल नेहरू की नेहरू  ( 1928 ) रिपोर्ट में मिलता है.
🔥 बाल गंगाधर तिलक के स्वराज्य विधेयक के बाद एनी बेसेंट के नेतृत्व में गृह स्वराज बिल ( home rule bill ) के तहत मौलिक अधिकारों ( Fundamental rights ) की मांग की गई.
🔥 1925 में तैयार की गई कॉमन वेल्थ विल ऑफ इंडिया में मौलिक अधिकारों की बात की गई फिर 1927 में कांग्रेस के मद्रास अधिवेशन में ए0 एम0 अंसारी द्वारा मौलिक अधिकारों की मांग रखी गई और
🔥  संविधान के निर्माण के लिए दो समितियां गठित की गई जो सरदार वल्लभभाई पटेल की अध्यक्षता वाली मौलिक अधिकार समिति व जेबी कृपलानी के अध्यक्षता वाली मौलिक अधिकारों की उपसमिति थी.

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आज की हमारी यहां पोस्ट भारतीय संविधान मे मौलिक अधिकार । fundamental rights of the Indian citizen. आपको पसंद आई होगी. दोस्तों इस पोस्ट में हमने बात की है इन सभी विषय पर 6 मौलिक अधिकारों ( Fundamental rights in hindi ) के बारे में मूलअधिकार क्या होते हैं ( what is fundamental rights )  के बारे में मूल अधिकारों की शुरुआत कैसे हुई के बारे में , मौलिक अधिकारों के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य important facts about fundamental rights. इस पोस्ट को दोस्तों आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए ताकि वहां भी इस पोस्ट को पढ़कर लाभ उठा सकें. || धन्यवाद ||

बुधवार, 5 जून 2019

philosophy meaning | Definition of philosophy | allthebestgk



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे website all the best gk पर. दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे ( फिलोसोफीमीनिंग ) philosophy meaning. Philosophy क्या है. Philosophy of life. Philosophy ka arth. Philosophy the meaning. Philosophy meaning in hindi. के बारे में कि फिलोसोफी क्या ( what is philosophy ) है. तो दोस्तों चलिए शुरू करते हैं आज की हमारी पोस्ट philosophy meaning in hindi.

philosophy meaning


दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम इन सभी Topic को cover करेंगे.
1. philosophy meaning
2. Philosophy examples
3. definition of philosophy
4. Branches of philosophy


1. philosophy meaning 


Philosophy meaning  ( फिलोसोफी का अर्थ ) होता है - दर्शन , दर्शनशास्त्र , तत्वज्ञान , तत्व विज्ञान , शास्त्र , विद्या का प्रेम

Philosophy the meaning
Philosophy meaning  


☆ Philosophy यूनानी भाषा के दो शब्दों से बना है
☆ Philos = प्रेम
☆ sophy = ज्ञान
☆ philosophy = ज्ञान से प्रेम करना


Outhe post
1. भारतीय इतिहास के सभी युद्ध
2. कक्षा 11 के राजनीति विज्ञान के प्रश्न उत्तर
3. सिंधु घाटी सभ्यता प्रश्नोत्तरी
4. भारतीय नागरिकों के मौलिक अधिकार


2. Philosophy examples ( दर्शन के उदाहरण )


☆ English = our philosophy of life is fun.
☆  hindi = जीवन का हमारा दर्शन मजेदार है.

☆ English = Did you enjoy the philosophy batch?
☆ hindi = क्या आपने दर्शन बैच का आनंद लिया

☆ English = yesterday , we met our new philosophy teacher.
☆ Hindi = कल हमने अपने दर्शन शिक्षक से मुलाकात की.

philosophy the Meaning ( दर्शन का अर्थ )

दोस्तों दर्शन शब्द संस्कृत भाषा के दृश् धातु से बना है‌‍‍‍‍‍‌. - " दृश्यता यथार्थ तत्वमनेन " अर्थात्  जिसके द्वारा यथार्थ तत्व की अनुभूति हो वही दर्शन होता है. और दोस्त को अंग्रेजी के शब्द फिलॉसफी का शाब्दिक अर्थ "ज्ञान के प्रति अनुराग" होता है. भारतीय व्याख्या अधिक गहराई तक पेट बनाती हैं. क्योंकि भारतीय अवधारणा के अनुसार दर्शन का क्षेत्र केवल ज्ञान तक नहीं हो कर समग्र व्यक्तित्व को अपने आप में समाहित करता है.
और दोस्तों दर्शन चिंतन का विषय ना होकर अनुभूति का विषय माना जाता है. दर्शन के द्वारा बौद्धिक तश्प्ति का आभास ना होकर समग्र व्यक्तित्व बदल जाता है.
यदि आत्मा वादी भारतीय दर्शन की भाषा में कहा जाए तो यह सत्य हैं कि दर्शन द्वारा आत्म ज्ञान ही ना होकर आत्मानुभूति हो जाती है.


Broad meaning of philosophy  ( दर्शन शब्द का व्यापक अर्थ )


दोस्तों दर्शन शब्द को व्यापक रूप से भी जोड़ा जाता है. जो आत्मा परमात्मा के स्वरूप और ब्रह्मांड की व्याख्या करता है. और मानव जीवन के विभिन्न समस्याओं के ज्ञान विज्ञान आदि का तर्कपूर्ण ढंग से विवेचन करता है. दोस्तों हम यह भी कह सकते हैं कि जिस किसी वस्तु और कार्य का तर्कपूर्ण ढंग से विवेचन करने वाली कला को दर्शन शास्त्र कहते हैं.


Narrow meaning of philosophy  ( दर्शन शब्द का संकुचित अर्थ )


दोस्तों दर्शन शब्द का संकुचित अर्थ (Narrow meaning of philosophy ) भी निकाला गया है जो आत्मा परमात्मा और प्रकृति के रहस्य को जानने का प्रयास करें मनुष्य दर्शनशास्त्र ( man Philosophy ) में यह चिंतन करता है. परमात्मा और प्रकृति के रहस्य क्या है जीवन क्या है. जीवन का उद्देश्य क्या है तथा जीवन का अंत क्यों होता है. और इस संसार को चलाने वाली शक्ति क्या है. मृत्यु के बाद क्या होता है. क्या आत्मा पुन: जन्म लेती हैं या नहीं आत्मा और परमात्मा का क्या संबंध है.

👉 भारत का संवैधानिक इतिहास
👉 कंप्यूटर से संबंधित प्रश्न उत्तर
👉 ब्रह्मांड और सौरमंडल Q&A


3. Definition of philosophy ( दर्शन की परिभाषा )


दोस्तों हम यह कह सकते हैं कि दर्शन शास्त्र की विचारधारा बहुत ही पुरानी है. जो कि दो शब्दों से मिलकर बनी है. "दर्शन" + "शास्त्र" -- दर्शनशास्त्र का अर्थ होता है -- "देखना" अर्थात जीवन और जगत के प्रति दृष्टिकोण रखना.

Philosophy the meaning
Philosophy meaning  


दोस्तों मानव जब से इस संसार में आया है. तब से वहां अलग अलग प्रश्नों को जानने और समझने की कोशिश कर रहा है. कि मानव के जन्म कारण, उद्देश्य और विभिन्न संबंधों को समझना चाहता है. किसी को हम दार्शनिकता कहते हैं.

दोस्तों हम यह कह सकते हैं कि दर्शन का अर्थ क्या है, वह दर्शन ज्ञान को व्यक्त करता है. और दोस्तों गहराई से समझने के लिए हम दर्शन की कुछ परिभाषाएं ( Definition of philosophy ) यहां दे रहे हैं जिनको ध्यान से पढ़ें.-----

1. R. W. सेलर्स = " दर्शन एक व्यवस्थित विचार द्वारा विश्व and मनुष्य की प्रकृति के विषय में ज्ञान प्राप्त करने का यंत्र प्रयत्न है "

2. बरटेर्ड रसेल = " अन्य विधाओं के अनुसार दर्शन का मुख्य उद्देश्य ज्ञान की प्राप्ति हैं "

3. जॉन D. V. के अनुसार = "जब कभी दर्शन के ऊपर गंभीरतापूर्वक विचार किया गया है तो यही निश्चय हुआ है कि दर्शन ज्ञान प्राप्ति का महत्त्व प्रकट करता है जो ज्ञान जीवन के आचरण को प्रभावित करता है."

4. डॉ राधाकृष्णन = "दर्शन वास्तविकता की स्वरूप तर्कसंगत खोज है"

5. कांट = "दर्शन ज्ञान का विज्ञान और आलोचना है"

6. Fichte = "दर्शन ज्ञान का विज्ञान है"

7. हेंडर्सन = "दर्शन कुछ अत्यंत कठिन समस्याओं का कठोर नियंत्रण और सुरक्षित विशेषण है इसका मनुष्य सामना करता है"

8. ब्राइट मैन = दोस्तों ब्राइटमेन दर्शन की परिभाषा कुछ विस्तृत दी है " दर्शन की परिभाषा एक ऐसे प्रयत्न के रूप में दी जाती हैं जिसके द्वारा संपूर्ण मानव अनुभूतियों के विषय में सत्यता से विचार किया जाता है अर्थात जिसके द्वारा हम अपने अनुभवो द्वारा अपने अनुभवों का वास्तविक सार जानते हैं"

दोस्तों इन सभी परिभाषा ओं के आधार पर हम यह कह सकते हैं कि दर्शनशास्त्र एक ऐसा विज्ञान हैं जो मानव जीवन और प्रकृति की वास्तविकता को जानने तथा समझने का प्रयास करते हैं.


💝💜भारत के राष्ट्रपति को याद रखने की ट्रिक💔💖

प्रकृति दर्शन शास्त्र की प्रकृति को समझना अन्य शास्त्रों की तुलना में सभी से अलग है. इसमें दर्शन शास्त्री मानव जीवन  तथा जगत की व्याख्या करने का प्रयास करता है.


4. Branches of philosophy ( दर्शन की शाखाएं )


दोस्तों अब हम बात करते हैं दर्शन की शाखाओं के बारे में. दोस्तों दर्शन का अध्ययन क्षेत्र बहुत व्यापक है. हकीकत में दर्शन के अध्ययन क्षेत्र में संपूर्ण सृष्टि or ब्रह्मांड और उसकी संपूर्ण क्रियाओं की वास्तविक खोज है. और दूसरे शब्दों में दर्शन को संपूर्ण मानव जीवन को दर्शन का क्षेत्र या दर्शन की शाखाएं माना जा सकता है. अतीत काल में दर्शन में साहित्य, धर्म, कला, विज्ञान, इतिहास आदि विषय आते थे. लेकिन आधुनिक काल में दर्शन का अध्ययन क्षेत्र या शाखाओं का विभाजन समस्याओं के आधार पर किया जाता है इस प्रकार से दर्शन का अध्ययन क्षेत्र / शाखाएं निम्नलिखित हैं-----

Philosophy meaning
Philosophy meaning  


1. Epistemology ( ज्ञान मीमांसा )
2. Axiology ( मूल्य मीमांसा )
3. Metaphysics ( तत्व मीमांसा )

Read more
🔴🔵राजनीति विज्ञान के प्रश्न उत्तर 🔵🔴

1. Epistemology ( ज्ञान मीमांसा ) = 

दोस्तों ज्ञान मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में एपिस्तेमोलॉजी ( epistemology ) कहते हैं. जो 2 शब्दों episteme - जिसका अर्थ है "ज्ञान" और logy जिसका अर्थ है "विज्ञान" इन दोनों शब्दों से मिलकर बना है epistemology. जिसका अर्थ हुआ ज्ञान का विज्ञान. शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम J.F. फेरीवर ने किया था.

 दोस्तों ज्ञान मीमांसा के अंतर्गत ज्ञान, उसके स्वरूप, उसके प्रकार, उसकी उत्पत्ति, उसका विकास, उसका लक्ष्य, उस की प्रमाणिकता, उसकी सीमा, उसकी सत्यता, जाता इन सभी विषयों का इसमें चिंतन किया जाता है. ज्ञान मीमांसा को प्रमाण मीमांसा भी कहते हैं. सही ज्ञान को "प्रमा" कहते हैं एवं जिसके द्वारा ज्ञान प्रकट होता है उस उसे "प्रमाण" कहते हैं. और प्रत्येक भारतीय दर्शन ने प्रमाण की संख्या पर अपना मत अलग-अलग रूप में प्रकट किया है-----  चार्वाक दर्शन प्रत्यक्ष को ही एकमात्र प्रमाण मानता है. बौद्ध और वैशेषिक ----- अनुमान और प्रत्यक्ष को ही प्रमाण मानते हैं. एवं दोस्तों जैन, योग एवं सांख्य ने  शब्द, अनुमान और प्रत्यक्ष को ही प्रमाण माना है. यहां ने उपमान, अनुमान, प्रत्यक्ष and शब्द आदि को प्रमाण माना है. And मीमांसा , अद्वैत वेदांत ने उपमान, प्रत्यक्ष, शब्द, अनुमान, अर्था पति और उपलब्धि को प्रमाण माना है.


👉 भूगोल के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर
👉 Geography Q&A

2. Axiology  ( मूल्य मीमांसा )


दोस्तों आइए अब हम बात करते हैं मूल्य मीमांसा ( axiology )  के बारे में महत्वपूर्ण क्या है मूल्य मीमांसा के बारे में.
दोस्तों मूल्य मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में ( axiology ) अक्सियोलॉजी कहते हैं. जो दो शब्द axios से बना है जिसका अर्थ होता है ---  " मूल्य " value and logy ( लोजी ) जिसका अर्थ है " विज्ञान " science. और इस प्रकार axiology  ( अक्सियोलॉजी ) का अर्थ हुआ ---- science of value  ( मूल्य का विवाह विज्ञान ).
इसके अंतर्गत मूल्यों का स्वरूप, उसका ज्ञान, विश्व के साथ उसके संबंध आदि विषयों पर चिंतन किया जाता है.

दोस्तों मूल्य मीमांसा के अंतर्गत मुख्य रूप से तीन विषय शामिल किए जाते हैं -----
A. Logic ( तर्कशास्त्र )
B. Aesthetic  ( सौंदर्यशास्त्र )
C. Ethics ( आचार मीमांसा )

A. Logic "तर्कशास्त्र" = दोस्तों तर्कशास्त्र को हम अंग्रेजी भाषा में लॉजिक ( logic ) कहते हैं. दोस्तों तर्कशास्त्र में है तर्क को विकसित करने की विधियों और तर्क के प्रकारों के बारे में अध्ययन किया जाता है. इसके अंतर्गत तर्क, तर्क करने के सिद्धांत, तर्क  की विधियां, तरकी की प्रणालियां और उसकी सत्यता आ सकता पर विचार-विमर्श किया जाता है.
और तर्कशास्त्र में खास बातें हैं. कि तर्कशास्त्र निर्णय की विवेचना करता है. मनुष्य के निर्णय प्रमाणित है या प्रमाणित इसकी जांच तर्कशास्त्र ही करता है.

B. Aesthetic "सौंदर्यशास्त्र" 

सौंदर्य शास्त्र को अंग्रेजी भाषा में "AESTHETIC" कहते हैं. इस का सर्वप्रथम प्रयोग A.G. बामघटीन ने किया था. और इसके अंतर्गत सौंदर्य का स्वरूप, सौंदर्य अनुभूति, उसका अस्तित्व, उसकी वास्तविकता, उसका महत्व सौंदर्य अनुभव का अन्य अनुभव के साथ संबंध आदि का चिंतन किया जाता है.

C. Ethics "आचार मीमांसा" 

आचार मीमांसा को अंग्रेजी में "ETHICS" कहते हैं. दोस्तो आचार्य मीमांसा को नीति शास्त्र ही कहते हैं. यह समाज और किसी व्यक्ति विशेष के बारे में अच्छे बुरे कर्मों पर चिंतन करते हैं. और दोनों के लिए नैतिकता अनैतिकता का मापदंड प्रस्तुत करता है.

3. Metaphysics  ( तत्व मीमांसा ) ----- 

 तत्व मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में metaphysics कहते हैं. जो दो ग्रीक शब्दों meta and physics से मिलकर बना है. Meta का मतलब होता boyand ( परे ) है और physics का मतलब होता है nature  ( प्रकृति ). अर्थात metaphysics का मतलब हुआ "प्रकृति से परे" या "प्रकृति से परे क्या है"
अतः इस खोज का अध्यन करने वाले शास्त्र या भविष्य ही metaphysics  ( तत्व मीमांसा ) है. और सर्वप्रथम मैटेफिजिक्स शब्द का प्रयोग एंड्रू निकस नामक विद्वान ने किया था.
तत्व विज्ञान में आत्मा, जगत और ईश्वर की चर्चा होती हैं. तत्व मीमांसा का अर्थ सदैव वास्तविकता के तत्व की खोज करना. इसके अंतर्गत आत्मा, ईश्वर, मनुष्य, प्रकृति, जन्म- मरण, सृष्टि आदि की वास्तविकता को जानने का प्रयास किया जाता है.

इन सभी विषयों का अध्ययन तत्व मीमांसा के अंतर्गत होता है.
( A ) आत्मा संबंधित तत्व ज्ञान. " metaphysics of soul "
( B ) ईश्वर संबंधित तत्व ज्ञान. " Theology "
( C ) सत्ता शास्त्र. " Ontology "
( D ) विश्व शास्त्र. " Cosmology "


 जीवन के प्रति दृष्टिकोण :----- दोस्तों सभी लोगों का जीवन जीने का अपना सिद्धांत होता है. एवं उस जीवन को जीने की एक प्रक्रिया होती है.
Examples :-- A महात्मा गांधी अपने जीवन में सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चले यह उनका जीवन दर्शन था.
B. मदर टेरेसा ने जीवन भर दूसरे लोगों की सेवा की यहीं उनका जीवन दर्शन था.

अभिप्राय = दर्शनशास्त्र का अर्थ ( philosophy meaning )खोज करना मानव जीवन ईश्वर और दृश्य जगत तत्वों की जानकारी प्राप्त करना है कि जीवन क्या है, और जीवन का क्या उद्देश्य है, इन सभी का उत्तर मिलता है हमें इन सभी कारणों में. कहा गया है की दर्शन की जीवन की कठिन समस्याओं का हलहल निकलने का प्रयास करता है. यह हमारे जीवन को अनुशासित करता है. दुनिया के बहुत से महापुरुषों ने जीवन और जगत के विभिन्न पहलुओं पर मंथन किया है और ज्ञान अर्जित किया यही ज्ञान प्राप्त करना दर्शनशास्त्र ( philosophy ) हैं.

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आज की हमारी यहां पोस्ट philosophy meaning ( philosophy का अर्थ ) philosophy the Meaning आपको पसंद आई होगी. इस पोस्ट में philosophy the meaning हमने इन सभी विषय पर बात की है. philosophy meaning ( दर्शन का अर्थ ), philosophy the meaning. Philosophy examples ( दर्शन के उदाहरण ), definition of philosophy, ( दर्शन की परिभाषा), Branches of philosophy दर्शन की शाखाएं.

सोमवार, 11 मार्च 2019

भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle | all the best gk



भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle - all the best gk 


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी website all the best gk  की एक और नई पोस्ट भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle | all the best gk  में |
      दोस्तों इस पोस्ट में हमने बात की है भारतीय इतिहास में लड़े गए प्रथम प्रमुख युद्ध के बारे में
तो दोस्तो बिना देर किए चलिए शुरू करते हैं आज के हमारी पोस्ट भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle | all the best gk |
 दोस्तों भारतीय इतिहास में यहां महत्वपूर्ण है और इससे संबंधित प्रश्न कंप्यूटर के एग्जाम में पूछे जा सकते हैं इसलिए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें ताकि आपकी भारतीय इतिहास से संबंधित प्रश्नों में कोई भी प्रश्न गलत नहीं होगा |

List of Indian wars ( भारतीय युद्धों की सूची)

भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle - all the best gk
भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle - all the best gk


1. हाईडेस्पीज / वितस्ता / झेलम का युद्ध

यह युद्ध 326 ईसा पूर्व सिकंदर और पंजाब के राजा पोरस के बीच में हुआ |


विजय - इस युद्ध में सिकंदर की विजय हुई

2. कलिंग की लड़ाई -  

सम्राट अशोक ने कलिंग पर 261 ई0 पू0 आक्रमण किया | युद्ध के कारण खून खराबा ज्यादा होने के कारण अशोक ने युद्ध न करने की प्रतिज्ञा ली |

3. सिंध की लड़ाई - 

समय 712 ई0 पू0 मोहम्मद कासिम ने अरबो की सत्ता स्थापित की |


4. तराइन का प्रथम युद्ध - 

तराइन का प्रथम युद्ध 1191 में हुआ और मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच में हुआ |

विजयी - इस युद्ध में पृथ्वीराज चौहान विजई हुआ |

5. तराइन का द्वितीय युद्ध - 

तराइन का द्वितीय युद्ध 1192 ईसवी में हुआ और यह युद्ध मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच में हुआ ।
विजयी - इस युद्ध में पृथ्वीराज चौहान विजई हुआ |

Most read
1. philosophy meaning
2. भारतीय नागरिकों के मौलिक अधिकार

6. पानीपत का प्रथम युद्ध - 

पानीपत का प्रथम युद्ध 1526 ईस्वी में हुआ और पानीपत का प्रथम युद्ध बाबर और इब्राहिम लोदी के बीच में हुआ |
विजयी - इस युद्ध में बाबर विजयी हुआ |

7. पानीपत का द्वितीय युद्ध - 

पानीपत का द्वितीय युद्ध 1556 ईस्वी में अकबर और हेमू के बीच में हुआ |
विजयी - इस युद्ध में अकबर विजयी हुआ |


8. हल्दीघाटी का युद्ध - 

हल्दीघाटी का युद्ध 1576 ईस्वी में हुआ और यह युद्ध महाराणा प्रताप और अकबर के बीच में हुआ |
विजयी - इस युद्ध में अकबर विजई हुआ |

9. खानवा का युद्ध - 

खानवा का युद्ध 1527 ईस्वी में बाबर और राणा सांगा के बीच में हुआ |
 विजय - इस युद्ध में बाबर की विजय हुई |


10. चंदेरी का युद्ध - 

चंदेरी का युद्ध 1528 ई0 में बाबर और मेदिनीराय के बीच में हुआ |

Indian wars 


11. घाघरा का युद्ध - 

घाघरा का युद्ध 1529 में बाबर और अफगानों के बीच में हुआ |
विजय - इसमें बाबर की विजय हुई |

12. चौसा का युद्ध - 

चौसा का युद्ध 1539 ई0 में हुमायूं और शेरशाह सूरी के बीच में हुआ |
विजय - इस युद्ध में शेर शाह सुरी की विजय हुई |

philosophy meaning

13. बेलग्राम / कन्नौज का युद्ध - 

1540 में शेर शाह सूरी और हुमायूं के बीच में हुआ |
विजय - इस युद्ध में शेर शाह सूरी की विजय हुई |

14. तालीकोटा का युद्ध - 

तालीकोटा का युद्ध 1565 ई0 में बहमनी और विजय नगर के बीच में हुआ |


15. असीरगढ़ का युद्ध - 

असीरगढ़ का युद्ध 1599 - 1600 ई0 में अकबर और मीरन बहादुर के बीच में लड़ा गया |

16. करनाल का युद्ध - 

1739 ई0 में करनाल का युद्ध नादिरशा और मुगल सम्राट के बीच में लड़ा गया |

17. प्लासी का युद्ध - 

प्लासी का युद्ध 1757 ईस्वी में क्लाइव और सिराजुद्दोला ( अंग्रेजो ) के बीच में लड़ा गया |
विजय - इस युद्ध में क्लाइव की विजय हुई |

18. वांडीवाश का युद्ध - 

वांडीवाश का युद्ध अंग्रेजों और फ्रांसीसीयों के बीच में 1760 में लड़ा गया |
विजय - इस युद्ध में अंग्रेजो की विजय हुई |

19. पानीपत का तृतीय युद्ध - 

पानीपत का तृतीय युद्ध 1761 में अहमदशाह अब्दाली और मराठों के बीच में लड़ा गया |
विजय - इस युद्ध में अहमदशाह अब्दाली की जीत हुई |

20. बक्सर का युद्ध - 

बक्सर का युद्ध 1764 में अंग्रेज और मीर कासिम की संयुक्त सेना के बीच में हुआ |
विजय - इस युद्ध में अंग्रेजों की जीत हुई |


21. प्रथम मैसूर युद्ध - 

प्रथम मैसूर युद्ध 1767 - 69 में हैदर अली और अंग्रेजों के बीच में लड़ा गया |
विजय - इस युद्ध में हैदर अली की जीत हुई |

22. द्वितीय मैसूर युद्ध  -

"द्वितीय मैसूर युद्ध 1780 -1784 में हैदर अली और अंग्रेजों के बीच में हुआ |

23. तृतीय मैसूर युद्ध - 

तृतीय मैसूर युद्ध 1790 में टीपू सुल्तान और अंग्रेजों के बीच में लड़ा गया |

24. चतुर्थ मैसूर युद्ध - 

चतुर्थ मैसूर युद्ध 1799 टीपू सुल्तान और अंग्रेजों के बीच में लड़ा गया |
विजय - इस युद्ध में अंग्रेजों की विजय हुई |

25. चिलीयान वाला युद्ध - 

चिलीयान वाला युद्ध 1849 ई0 में ईस्ट इंडिया कंपनी और सिख के में हुआ |
विजय - ईस्ट इंडिया कंपनी की विजय हुई |

26. भारत - चीन सीमा युद्ध - 

1962 में भारत चीन का युद्ध हुआ |
 विजय - इस युद्ध में चीन की विजय हुई |

27. भारत-पाक युद्ध - 

भारत पाक युद्ध 1965 में हुआ |
इस युद्ध में भारत की विजय हुई |


28. भारत - पाक युद्ध  - 

भारत पाक युद्ध 1971 में हुआ |
विजय - इस युद्ध में भारत की जीत हुई

29. कारगिल युद्ध - 

कारगिल युद्ध 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच में हुआ |
विजय - इस युद्ध में भी भारत की जीत हुई |

30. चंदवार का युद्ध - 

चंदवार का युद्ध 1194 में मोहम्मद गौरी और राजा जयचंद के बीच में हुआ |
विजय - इस युद्ध में मोहम्मद गौरी की विजय हुई |

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको हमारी यह पोस्ट ( post )भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle | all the best gk पसंद आई होगी अगर आपको हमारी यहां पोस्ट भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच में हुए | top wars indian history , when and by whom the middle | all the best gk पसंद आई हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ शेयर करो जो competitive exam की या अन्य किसी भी एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं ताकि उनकी भी हेल्प हो सके |

दोस्तों अगर आप हमारे साथ जुड़ना चाहते हो और daily नई पोस्ट की अपडेट पाना चाहते हो तो नीचे ईमेल आईडी डालकर सब्सक्राइब ( subscribe ) कर सकते हो |

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk



11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk 


 नमस्कार दोस्तों स्वागत है हमारी website all the best gk की एक और नई post 11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk पर |

दोस्तों आज इस पोस्ट में हम बात करेंगे 11 वीं कक्षा के राजनीति विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्नों के बारे में और दोस्तों यहां 11वीं कक्षा के सिलेबस से लिए गए महत्वपूर्ण प्रश्न है जो परीक्षा में आने की संभावना है तो दोस्तों चलिए शुरू करते हैं

11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein 




Q 1. भारतीय सांस्कृतिक पुनर्जागरण का पिता किसे कहा जाता है ?
Ans. राजा राम मोहन राय

Q 2. रामकृष्ण मिशन की स्थापना कब हुई ?
Ans. 1896

Q 3. आर्य समाज की स्थापना कब हुई ?
Ans. 10 अप्रैल 1875

Q 4. कांग्रेस की स्थापना किसने की ?


Q 5. अलीगढ़ आंदोलन किसने चलाया ?
Ans. सर सैयद अहमद

11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk
11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk 

👉Click here 👇
1. भारत के राष्ट्रपति याद रखने की ट्रिक 
2. fundamental rights of indian citizen


Q 6. एनी बेसमेंट किस संस्था से जुड़ी हुई थी ?
Ans. थियोसोफिकल सोसायटी

Q 7. कांग्रेस ने प्रथम स्वतंत्रता दिवस कब मनाया ?
Ans - 26 जनवरी 1930

Q 8. ब्रिटिश संसद में भारतीय स्वतंत्रता विधेयक प्रस्तुत किया गया ?
Ans - 4 जुलाई 1947


Q 9. नौसैनिक विद्रोह हुआ ?
Ans - 1946

Q 10. क्रिश्चियन मिशन भारत आया ?
Ans - 1942

👉Click here 👇
🌳 ब्रह्मांड और सौरमंडल से संबंधित प्रश्न उत्तर 🌻

Q 11. ब्रिटिश सम्राट के पद से भारत का सम्राट पद नाम हटाया गया ?
Ans - 1947 के अधिनियम द्वारा

Q 12. कैबिनेट मिशन योजना के अनुसार संविधान सभा में सदस्य थे ?
Ans - 389

Q 13. कैबिनेट मिशन में सदस्य थे ?
Ans - 2

Q 14. देशी रियासतों के लिए संविधान सभा में निर्धारित सीटों की संख्या थी ?
Ans. 93

Q 15. संविधान दिवस कब मनाया जाता है ?
Ans - 26 नवंबर

👇 Click here 🌳
🌎 computer gk questions 🌎


Political science questions 


Q 16. संविधान सभा की प्रथम बैठक के अध्यक्ष थे ?
Ans. सच्चिदानंद सिन्हा

Q 17. संविधान सभा के चुनावो में कांग्रेस को सीट मिली ?
Ans - 208

Q 18. वेदों की ओर लौटो का नारा दिया ?
Ans - दयानंद सरस्वती


Q 19. शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व किया ?
Ans - स्वामी विवेकानंद

Q 20. पांडिचेरी में आश्रम बनाया ?
Ans - महर्षि अरविंद

💚 👉 Click here 🌳 👇
 💝 political science important question 🌱

Q 21. बारदोली आंदोलन के नेता थे ?
Ans - सरदार पटेल

Q 22. एकात्मक मानववाद का सिद्धांत दिया ?
Ans - पंडित दीनदयाल उपाध्याय

Q 23. भारत छोड़ो आंदोलन चलाया ?
Ans - महात्मा गांधी


Q 24.  संविधान की प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे ?
Ans - डॉ आंबेडकर

Q 25. स्वामी विवेकानंद का जन्म कब हुआ?
Ans - 12 जनवरी 1863 को ( युवा दिवस )

🌺 👉 Click here 🍒 👇 🌎 indian geography important question answer 🌋

Q 26. भारत में सामाजिक व सांस्कृतिक पुनर्जागरण के जनक थे ?
Ans. स्वामी दयानंद सरस्वती

Q 27. किस समाचार पत्र ने भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में जन जागरण में महती भूमिका निभाई ?
Ans. अमृत बाजार पत्रिका

Q 28. गोपाल कृष्ण गोखले का जन्म हुआ ?
Ans. 1866 ई0

Q 29. गोपाल कृष्ण गोखले के विचारों की प्रमुख प्रवृत्ति है ?
Ans. उदारवादी

Q 30. चोरी चोरा कांड कब हुआ ?
Ans.  4 फरवरी 1922


Q 31. महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन प्रारंभ कब किया ?
Ans. सितंबर 1920

Q 32. मरो नहीं मारो का क्रांतिकारी नारा किसने दिया था ?
Ans. लाल बहादुर शास्त्री

Q 33. काकोरी कांड कब हुआ ?
Ans.  9 अगस्त 1925

Q 34.  8 अगस्त 1942 को गांधी को जी ने कौन सा नारा दिया था ?
Ans. 1. करो या मरो , 2. अंग्रेजों भारत छोड़ो

Q 35. स्वतंत्रता आंदोलन का प्रारंभ हुआ ?
Ans. 10 मई 1857

philosophy meaning

Rajneeti Vigyan ke vastunisth prashna Uttar

Q 36. 10 मई 1857 को राजस्थान का ए0 जी0 जी0 ( एजेंट टू गवर्नर जनरल ) था ?
Ans. जॉर्ज पैट्रिक लोरेंस

Q 37. राजस्थान में नसीराबाद छावनी में क्रांति का प्रारंभ हुआ ?
Ans.  28 मई 1857


Q 38. " चलो दिल्ली मारो फिरंगी " का नारा किसने लगाया ?
Ans. जोधपुर लेजियम

Q 39. राजस्थान केसरी के संपादक कौन थे ?
Ans. माणिक्य लाल वर्मा

Q 40. भारतीय परिषद 1909 द्वारा केंद्रीय विधान परिषद में अतिरिक्त सदस्यों की अधिकतम संख्या 14 से बढ़ाकर की गई ?
Ans.  69

philosophy meaning

Q 41. 9 फरवरी 1921 को स्थापित नरेश मंडल का मुख्यालय रखा गया ?
Ans. दिल्ली

Q 42. भारतीय शासन अधिनियम 1919 के प्रावधान से संबंधित हैं ?
Ans. चुनाव हेतु पहली बार सांप्रदायिक निर्वाचन प्रणाली का आरंभ

Q 43. संघीय न्यायालय के न्यायाधीश कितने वर्ष की आयु तक अपने पद पर रह सकते थे ?
Ans. 65 वर्ष

Q 44. भारतीय शासन अधिनियम 1935 द्वारा अवशिष्ट शक्तियां किसे सौंपी गई थी ?
Ans. गवर्नर जनरल

Q 45. भारतीय शासन अधिनियम 1935 में अनुच्छेद और परिशिष्ट की संख्या क्या थी ?
Ans. 451 व 15

Kaksha 11 ke Rajneeti Vigyan ke mahatvapurna prashna Uttar


Q 46. भारत में वह मंत्री जो संसद के दोनों में से किसी सदन का सदस्य नहीं है उसे मंत्री के पद से कब मुक्त हो जाना पड़ता है ?
Ans. 6 माह भाई

Q 47. मंत्रिपरिषद व्यक्तिगत रूप से किसके प्रति उत्तरदाई होती हैं ?
Ans. राष्ट्रपति के प्रति


Q 48. भारत में मंत्री परिषद कौन सा प्रस्ताव रख सकती हैं ?
Ans. विश्वास प्रस्ताव

Q 49. संसदीय तंत्र में वास्तविक कार्यपालिका कौन होती है ?
Ans. मंत्री परिषद

Q 50. भारत के संविधान के अनुच्छेद 75 ( 3 ) के अनुसार मंत्रिपरिषद किसके प्रति सामूहिक रूप से जिम्मेदार होती हैं ?
Ans. लोकसभा


तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको हमारी यह पोस्ट 11th class political science question answer in hindi | gyarvi kaksha ke Rajneeti Vigyan ke prashna Uttar Hindi mein | all the best gk पसंद आई होगी अगर आपको यह पोस्ट हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करो ताकि उनकी भी परीक्षा में halp हो सके |
 धन्यवाद

मंगलवार, 5 मार्च 2019

Sindhu Ghati sabhyata in Hindi | सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर - all the best gk



Sindhu Ghati sabhyata in Hindi| सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर - all the best gk


नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी website all the best gk की एक और नई post Sindhu Ghati sabhyata in Hindi | सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर  में । दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे post Sindhu Ghati sabhyata in Hindi सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर  के बारे में ।


दोस्तों किसी भी सरकारी या अर्ध सरकारी परीक्षा में सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न अवश्य पूछे जाने लगे । यह प्रश्न महत्वपूर्ण प्रश्न है और परीक्षा में प्रश्न आ चुके हैं क्या पता वापस आ जाए तो एक बार देख लेते हैं ।
   तो दोस्तो बिना देर किए चलिए शुरू करते हैं आज की हमारी पोस्ट सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर को ।

Sindhu Ghati sabhyata in Hindi | सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर - all the best gk

Sindhu Ghati sabhyata in Hindi | सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर 



Q 1. चहून्दडो  के उत्खनन का निर्देशन किया था ?
Ans - J. H. मैके ।

Q 2. हड़प्पा कालीन समाज किन वर्गों में विभक्त था ?
Ans- विद्वान , योद्धा , व्यापारी और श्रमिक ।

Q 3. सिंधु घाटी सभ्यता स्थल लोथल स्थित है ?
Ans- गुजरात ।

Q 4. किस हड़प्पा कालीन स्थल से युगल शवाघान का शाक्ष्य मिला है ?
Ans - लोथल ।

Q 5. मांडा किस नदी के किनारे स्थित है ?
Ans - चिनाब ।

👇Click here 👇
1. computer gk questions
2. भारतीय नागरिकों के मौलिक अधिकार

Q 6. सिंधु घाटी सभ्यता किस युग में पड़ता है ?
Ans - अद्य ऐतिहासिक काल ।

Q 7. मोहनजोदड़ो की सबसे बड़ी इमारत मानी जाती है ?
Ans - विशाल अन्नागार / धान्याकोठार ।

Q 8. हड़प्पा सभ्यता किस युग की थी ?
Ans - लोह युग ।

Q 9. हड़प्पा सभ्यता के निवासी थे ?
Ans - शहरी ।


Q 10. पैमाने की खोज ने यह सिद्ध कर दिया है कि सिंधु घाटी के लोग माप और तौल से परिचित थे । यह खोज कहां हुई है ?
Ans - लोथल ।

👇 Click here 👇
🌳🌋 सौर मंडल / ब्रह्मांड से संबंधित प्रश्न उत्तर🌇
Q 11. किस सिंधु घाटी स्थल के नाम का पट्टीका अभिलेख मिला है ?
Ans. धोलावीरा।

Q 12. हड़प्पा का स्थल किस नदी के तट पर अवस्थित हैं ?
Ans. रावी ।

Q 13. हड़प्पा सभ्यता की खोज किस वर्ष में हुई ?
Ans. - 1921 में ।


Q 14. हड़प्पा सभ्यता के अंतर्गत हल से जूते गए खेत का साक्ष्य कहां से मिला है ?
Ans. कालीबंगा।

Q 15. हड़प्पा सभ्यता का प्रचलित नाम है ?
Ans. सिंधु घाटी सभ्यता ।

8👇 Click here🌳
🌎 computer gk questions 🌎

Q 16. सेंधव स्थलों के उत्खनन से प्राप्त मुहर पर किस पशु का सर्वाधिक उत्कीर्णन हुआ है ?
Ans. बेल ।

Q 17. किस हड़प्पा कालीन स्थल से नृत्य मुद्रा वाली स्त्री की कांस्य मूर्ति प्राप्त हुई है ?
Ans.  मोहनजोदड़ो ।

Q 18. सिंधु घाटी के लोग विश्वास करते थे ?
Ans. मातृशक्ति में


Q 19. भारत में खोजा गया सबसे पहला शहर था ?
Ans. हड़प्पा ।

Q 20. सिंधु सभ्यता की ईंटों का अलंकरण किस स्थान से मिला है ?
Ans. कालीबंगा ।

👇Click here 👇
🌻Computer 51 important question answer 🔴
Q 21. सिंधु सभ्यता में वृहत स्नानागार पाया जाता है ।
Ans. मोहनजोदड़ो

Q 22. किस पशु से सिंधु घाटी के लोग सामान्यतः परिचित नहीं थे ?
Ans.  गाय

Q 23. हड़प्पा की सभ्यता के बारे में कौन सी युक्ति सही है ?
Ans. उन्होंने पशुपति का सम्मान करना आरंभ किया ।


Q 24. हड़प्पा सभ्यता की खोज किस वर्ष में हुई थी ?
Ans. 1921

Q 25. वह अभिलेख , जो प्राचीन राजस्थान में भागवत संप्रदाय के प्रभाव की पुष्टि करता है ?
Ans. घोसुंडी अभिलेख ।

👉Click here 👇
🌳 भारत के राष्ट्रपति याद रखने की ट्रिक 👌

Q 26. पूरालेख शास्त्र किसका अध्ययन है ?
Ans. शिलालेख ।

Q 27. सिंधु घाटी की सभ्यता के लोग किसकी पूजा करते थे ?
Ans. पशुपति

Q 28. सिंधु घाटी सभ्यता की लिपि कौन सी है ?
Ans. अज्ञात ।


Q 29. कौन सी कृति कृष्ण देवराय ने लिखी थी ?
Ans. अनुम्प मलयादा ।

Q 30.  कांसे की नर्तकी की मूर्ति उत्खनन द्वारा प्राप्त हुई है ?
Ans. मोहनजोदड़ो ।

👉 🌳 Click here 👇 💚 
💖 political science important question 🌱

Q 31. मोहनजोदड़ो के आवास / गृह  बने हुए थे ?
Ans. ईटों से

Q 32. सिंधु घाटी की लिपि की सूचना ज्ञात होती हैं ?
Ans. मोहरों से ।

Q 33. सिंधु घाटी सभ्यता का इलाका कहां स्थित है ?
Ans. पाकिस्तान में ।

Q 34. धातु से बने सिक्के सबसे पहले प्रकट हुए थे ?
Ans. हड़प्पा सभ्यता में ।

Q 35. कालीबंगा सभ्यता को सर्वप्रथम प्रकाश में लाने का श्रेय दिया जा सकता है ?
Ans. अमलानंद घोष

🍒 👉 Click here 🌱 👇
🌳indian geography important question answer 💖

Q 36. कौन सी सभ्यता हड़प्पा सभ्यता की समकालीन थी ?
Ans. मिश्र सभ्यता ।

Q 37. सर्वप्रथम मानव ने किस धातु का उपयोग किया ?
Ans. तांबा

Q 38. हड़प्पा सभ्यता के अभिलेख मुख्यतः किस वस्तु पर मिलते हैं ?
Ans. मोहरों पर  ।


39. हड़प्पा सभ्यता के किस स्थल से रथ की सुंदर कांस्य मूर्ति मिली है ?
Ans. मोहनजोदड़ो ।

Q 40.  हड़प्पावासी किस वस्तु के उत्पादन में सर्वप्रथम थे ?
Ana. कपास ।

Q 41.  भारत में खोजा गया सबसे प्राचीन शहर था ?
Ans. हड़प्पा

Q 42. प्राचीन भारत में कौन सी एक लिपि दाएं ओर से बाई ओर लिखी जाती थी ?
Ans. खरोष्ठी

Q 43. मानव द्वारा सर्वप्रथम प्रयुक्त अनाज था ?
Ans. चावल

Q 44. नालंदा विश्वविद्यालय किस लिए विश्व प्रसिद्ध था ?
 Ans. बौद्ध धर्म दर्शन

Q 45. आधुनिक देवनागरी लिपि का प्राचीनतम रूप है ?
Ans. ब्राह्मी

philosophy meaning



Q 46. ' स्वप्नवासवदत्ता ' के लेखक हैं ?
Ans. भास

Q 47.  " मालती माधव " के लेखक थे ?
Ans. भवभूति

Q 48. शून्य की खोज किसने की ?
Ans. आर्यभट्ट

Q 49. भीमबेटका किसके लिए प्रसिद्ध हैं ?
Ans. गुफाओं के शैल चित्र के लिए

Q 50. " हितोपदेश " के लेखक हैं ?
Ans. नारायण पंडित


तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको यह post Sindhu Ghati sabhyata in Hindi सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर -all the best gk पसंद आई होगी । अगर आपको यह पोस्ट post Sindhu Ghati sabhyata in Hindi सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर  पसंद आए हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करो जो भी आपके दोस्त परीक्षा ( exam ) की तैयारी कर रहे हैं ।

Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK



Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK

Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK
Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK

नमस्कार दोस्तों स्वागत है । आपका हमारी website All the best gk  की एक और नई पोस्ट में Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK
   तो दोस्तों इस पोस्ट Bharat ka samvaidhanik itihas में हम बात करेंगे भारत के संवैधानिक इतिहास के बारे में और दोस्तों इस से संबंधित जो भी प्रश्न बनते हैं उनके बारे में इस पोस्ट में हम बात करेंगे तो दोस्तों चलिए बिना देर किए शुरू करते हैं आज की हमारी पोस्ट भारत का संविधान इतिहास ।

🌳 👉Click here 💚 👇 

1. political science important question 


भारत का संवैधानिक इतिहास




प्रश्न 1. औपनिवैश्विक भारत में कौनसा संवैधानिक अधिनियम मांटेग्यू घोषणा की परिणति था ? ( 2nd tech.2014 )
उत्तर - भारतीय शासन अधिनियम 1919

प्रश्न 2. किस भारत शासन अधिनियम द्वारा भारत में सर्वप्रथम द्विसदनात्मक व्यवस्थापिका की स्थापना की गई ? ( PTI - 2015 )
उत्तर - 1919

प्रश्न 3. 1919 अधिनियम की मुख्य विशेषता क्या है ( RPSC, PTI - 2015 )
उत्तर - प्रांतो में दोहरा शासन

प्रश्न 4. 1935 के अधिनियम के अंतर्गत गवर्नर जनरल की कार्यकारिणी के सदस्यों की नियुक्ति कौन करता था ? ( RPSC, PTI - 2015 )
उत्तर - गवर्नर जनरल स्वयं



प्रश्न 5. 1935 के अधिनियम के अंतर्गत समवर्ती सूची में कितने विषय थे ? ( RPSC, PTI - 2015 )
उत्तर - 57

👇 Click here 👇
🌳computer gk questions🌳

प्रश्न 6. 1935 के अधिनियम की मुख्य विशेषता क्या है  ( PTI - 2015 )
उत्तर - प्रांतीय स्वायत्तता

प्रश्न 7. ईसाइयों के लिए किस अधिनियम के अंतर्गत प्रथम निर्वाचन का प्रावधान किया ? ( 2nd tech. , संस्कृत - 2015 )
उत्तर - 1919

प्रश्न 8. भारत सरकार के किस अधिनियम को मांटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधार के नाम से भी जाना जाता है ? ( 2nd tech. , गणित , हिंदी 2015 )
उत्तर - 1919 का अधिनियम

प्रश्न 9.  मार्टो - मिंटो सुधार का उद्देश्य ................ ( RAS - 2015 )
उत्तर - मुसलमानों के लिए अलग निर्वाचन मंडल ।



प्रश्न 10. भारत में सचिव का पद किसके द्वारा निर्वाचित निर्मित किया गया था ? ( RRB TECH. 2009 , BPSC - 2011 )
उत्तर - भारत सरकार अधिनियम 1858

👇 Click here 👇
🌋 सौरमंडल ब्रह्मांड से संबंधित प्रश्न उत्तर 🌎

प्रश्न 11. संघीय प्रणाली का पहला प्रयास भारत सरकार अधिनियम द्वारा कब किया गया था? ( SSC - HR - 2011 )
उत्तर - 1935 ई.

प्रश्न 12. केंद्र में द्वैध शासन अधिनियम के अंतर्गत स्थापित किया गया ? ( SSC - 2011 , RAS - 2008 , 2ND TECH. SST - 2011 )
उत्तर भारत सरकार अधिनियम 1935 ईस्वी

प्रश्न 13. किस अधिनियम की प्रमुख विशेषता प्रांतीय स्वायत्तता थी ? ( SSC - 2008 )
उत्तर - 1935 का अधिनियम



प्रश्न 14. रेगुलेटिंग एक्ट कब पारित किया गया ? ( URSC - 1994 )
उत्तर - 1773 ईस्वी में

प्रश्न 15. महारानी विक्टोरिया को भारत की साम्राज्ञी नियुक्त किया गया ? ( BPSC 1992 )
उत्तर - 1888

👇 Click here 🌳 
🌎 computer gk questions 🌎

प्रश्न 16. किस अधिनियम के द्वारा बोर्ड ऑफ कंट्रोल की स्थापना की गई ? ( पटवार 2011 )
उत्तर - पिट्स इंडिया एक्ट 1784

प्रश्न 17. भारत में संघीय न्यायालय की स्थापना की गई ? ( RPSC , 2ND TECH SCIENCE )
उत्तर - 1935 के अधिनियम द्वारा

प्रश्न 18. किसने 1935 के अधिनियम की आलोचना करते हुए एक दासता का घोषणा पत्र की संज्ञा दी ( 2nd TECH. SCIENCE - 2011 , SSC - 2011 )
उत्तर - पंडित जवाहरलाल नेहरू

प्रश्न 19. किस अधिनियम के अंतर्गत अंग्रेजों ने भारत में पहली बार सांप्रदायिक निर्वाचन मंडल प्रणाली को आरंभ किया था ? ( 2ND TECH. URDU 2011 )
उत्तर - भारत सरकार अधिनियम 1909



प्रश्न 20. किस एक्ट द्वारा ईस्ट इंडिया कंपनी से शक्ति का स्थानांतरण भारत के राज्य को किया गया ? ( RAS - 1995 )
उत्तर - 1858 का एक्ट

👇Click here🌻
🌳 Computer 51 important question answer👌

प्रश्न 21. किस सन में रेगुलेटिंग एक्ट के द्वारा गवर्नर जनरल के पद की शुरुआत की ( RAS 1998 )
उत्तर - 1973 - 74

प्रश्न 22. भारत सरकार अधिनियम 1919 की प्रमुख विशेषता थी ? ( पटवारी - 2011 )
उत्तर - प्रांतीय द्वैध शासन

प्रश्न 23. भारतीयों को वर्ष 1947 में सार्वभौम सत्ता सौंपने की योजना किस नाम से जानी गई ? ( UPPSC - 2005 , IT'S -1994 )
उत्तर -"माउंटबेटन योजना "

प्रश्न 24. भारत में सचिव का पद किसके द्वारा निर्मित किया गया ? ( RRB 2002 )
उत्तर - भारत सरकार अधिनियम - 1935

👉Click here👇
🌳 bharat ke rashtrapati yaad rakhne ki trick👌

प्रश्न 25. लॉर्ड डफरिन के वायसराय काल की एक महत्वपूर्ण घटना थी ? ( MPPSC - 2017 )
उत्तर - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना


संविधान सभा - All the best gk 

Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK

Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur prashnottar - all the best GK

Q 26. भारतीय संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष कौन थे ?
उत्तर - डॉ भीमराव आंबेडकर |  ( SSC - CGL - 2016 )



Q 27.संसद के केंद्रीय कक्ष में संविधान सभा की पहली बैठक कब हुई थी ?
उत्तर - 8 सितंबर 1949 ( SSC - CGL - 2016 )

Q 28.  संविधान सभा का प्रथम सत्र आरंभ कब हुआ ?
उत्तर - 9 दिसंबर 1946 ( PPSC - PTI - 2015 )

Q 29. भारतीय संविधान की मसौदा समिति के अध्यक्ष कौन थे ?
उत्तर - बी आर अंबेडकर ( पटवारी - 2013 )

Q 30.  संविधान सभा के प्रथम उपाध्यक्ष कौन थे ?
उत्तर  एच0 सी0 मुखर्जी (  RAS -2013 )

🌺 👉 Click here 🌎 👇 
💚 indian geography important question answer 🍒

Q 31. संघ संविधान समिति के अध्यक्ष थे ?
उत्तर - जवाहरलाल नेहरू ( RAS - 2013 )

Q 32.  संविधान की प्रारूप समिति के समक्ष प्रस्तावना का प्रस्ताव किसने रखा ?
उत्तर - पंडित जवाहरलाल नेहरू ( RRB  - 2006 , SSC - 2011 , CISF - 2011 )

Q 33. स्वतंत्र भारत की संविधान सभा के अध्यक्ष कौन थे ?
उत्तर - डॉ राजेंद्र प्रसाद  ( RPSS Junior asst. 2008 , MPPSC - 2010 )

Q 34. संविधान सभा ने भारत के संविधान को कब अंगीकृत किया था ?
उत्तर - 26 नवंबर 1949 ( RRB  TA  - 2009 )

Q 36. संविधान सभा के स्थाई अध्यक्ष कौन थे ?
उत्तर - राजेंद्र प्रसाद ( CPSC -- 2005 , RPSC 2ND - 2010 )



Q 37. संविधान सभा के उद्घाटन अधिवेशन की अध्यक्षता किसने की थी ?
उत्तर - सच्चिदानंद सिंहा ( RRB - 2005 , RRB ASM - 2005 )

Q 38. भारत की संविधान सभा किसके द्वारा गठित की गई ?
उत्तर - कैबिनेट मिशन योजना ( SSC - 2011 )

Q 39. बीआर अंबेडकर का संविधान सभा में निर्वाचन किससे हुआ था ?
उत्तर - पश्चिमी बंगाल से ( Raj. B.ed. 2013 , IAS - 1996 )

Q 40. भारत का संविधान कब लागू हुआ था ?
उत्तर - 26 जनवरी 1950 ( SSC - CPO - 2009 )

philosophy meaning

Q 41. संविधान को 26 जनवरी के दिन लागू करने का निर्णय क्यों  किया गया ?
उत्तर कांग्रेस ने 1930 में स्वतंत्रता दिवस के रूप में इसी तिथि को मनाया था | ( BPSC - 2011 , JPSC - 2011 )

Q 42. भारतीय संविधान ने भारतीय राष्ट्रीय ध्वज की रूपरेखा को कब अंगीकार किया ?
उत्तर - 22 जुलाई 1947 ( SSC - 2011 )

Q 43. संविधान सभा का पहला सत्र कब हुआ था ?
उत्तर - 9 दिसंबर 1946 ( UPSC - 2009 )



Q 44.  भारत को एक संविधान देने का प्रस्ताव संविधान सभा द्वारा कब पारित किया गया ?
उत्तर - 22 जुलाई 1947 ( UPSC  - 1998 , 2006 )

Q 45. भारत की संविधान सभा गठित करने का आधार क्या था ?
उत्तर - कैबिनेट मिशन - 1946  ( SSC - 2016 )

Q 46. भारतीय संविधान को किसने बनाया ?
उत्तर - संविधान सभा ने  ( Rpsc - 2011 ) ।

तो दोस्तों अगर आपको यह post Bharat ka samvaidhanik itihas ke baare mein kuch Mehatpur  prashnottar - all the best GK पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करो. । ताकि वह भी इस पोस्ट Bharat ka samvaidhanik itihas  को पढ़कर एग्जाम में तैयारी में help पा सके ।


Comments system

Disqus Shortname

msora

Comments System

Disqus Shortname

Blogger द्वारा संचालित.