philosophy meaning | allthebestgk

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे website all the best gk पर. दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे ( फिलोसोफीमीनिंग ) philosophy meaning. Philosophy क्या है. Philosophy of life. Philosophy ka arth. Philosophy the meaning. Philosophy meaning in hindi. के बारे में कि फिलोसोफी क्या ( what is philosophy ) है. तो दोस्तों चलिए शुरू करते हैं आज की हमारी पोस्ट philosophy meaning in hindi.

philosophy meaning


दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम इन सभी Topic को cover करेंगे.
1. philosophy meaning
2. Philosophy examples
3. definition of philosophy
4. Branches of philosophy


1. philosophy meaning 


Philosophy meaning  ( फिलोसोफी का अर्थ ) होता है - दर्शन , दर्शनशास्त्र , तत्वज्ञान , तत्व विज्ञान , शास्त्र , विद्या का प्रेम

Philosophy the meaning
Philosophy meaning  


☆ Philosophy यूनानी भाषा के दो शब्दों से बना है
☆ Philos = प्रेम
☆ sophy = ज्ञान
☆ philosophy = ज्ञान से प्रेम करना


Outhe post
1. भारतीय इतिहास के सभी युद्ध
2. कक्षा 11 के राजनीति विज्ञान के प्रश्न उत्तर
3. सिंधु घाटी सभ्यता प्रश्नोत्तरी


2. Philosophy examples ( दर्शन के उदाहरण )


☆ English = our philosophy of life is fun.
☆  hindi = जीवन का हमारा दर्शन मजेदार है.

☆ English = Did you enjoy the philosophy batch?
☆ hindi = क्या आपने दर्शन बैच का आनंद लिया

☆ English = yesterday , we met our new philosophy teacher.
☆ Hindi = कल हमने अपने दर्शन शिक्षक से मुलाकात की.

philosophy the Meaning ( दर्शन का अर्थ )

दोस्तों दर्शन शब्द संस्कृत भाषा के दृश् धातु से बना है‌‍‍‍‍‍‌. - " दृश्यता यथार्थ तत्वमनेन " अर्थात्  जिसके द्वारा यथार्थ तत्व की अनुभूति हो वही दर्शन होता है. और दोस्त को अंग्रेजी के शब्द फिलॉसफी का शाब्दिक अर्थ "ज्ञान के प्रति अनुराग" होता है. भारतीय व्याख्या अधिक गहराई तक पेट बनाती हैं. क्योंकि भारतीय अवधारणा के अनुसार दर्शन का क्षेत्र केवल ज्ञान तक नहीं हो कर समग्र व्यक्तित्व को अपने आप में समाहित करता है.
और दोस्तों दर्शन चिंतन का विषय ना होकर अनुभूति का विषय माना जाता है. दर्शन के द्वारा बौद्धिक तश्प्ति का आभास ना होकर समग्र व्यक्तित्व बदल जाता है.
यदि आत्मा वादी भारतीय दर्शन की भाषा में कहा जाए तो यह सत्य हैं कि दर्शन द्वारा आत्म ज्ञान ही ना होकर आत्मानुभूति हो जाती है.


Broad meaning of philosophy  ( दर्शन शब्द का व्यापक अर्थ )


दोस्तों दर्शन शब्द को व्यापक रूप से भी जोड़ा जाता है. जो आत्मा परमात्मा के स्वरूप और ब्रह्मांड की व्याख्या करता है. और मानव जीवन के विभिन्न समस्याओं के ज्ञान विज्ञान आदि का तर्कपूर्ण ढंग से विवेचन करता है. दोस्तों हम यह भी कह सकते हैं कि जिस किसी वस्तु और कार्य का तर्कपूर्ण ढंग से विवेचन करने वाली कला को दर्शन शास्त्र कहते हैं.

Narrow meaning of philosophy  ( दर्शन शब्द का संकुचित अर्थ )


दोस्तों दर्शन शब्द का संकुचित अर्थ (Narrow meaning of philosophy ) भी निकाला गया है जो आत्मा परमात्मा और प्रकृति के रहस्य को जानने का प्रयास करें मनुष्य दर्शनशास्त्र ( man Philosophy ) में यह चिंतन करता है. परमात्मा और प्रकृति के रहस्य क्या है जीवन क्या है. जीवन का उद्देश्य क्या है तथा जीवन का अंत क्यों होता है. और इस संसार को चलाने वाली शक्ति क्या है. मृत्यु के बाद क्या होता है. क्या आत्मा पुन: जन्म लेती हैं या नहीं आत्मा और परमात्मा का क्या संबंध है.

👉 भारत का संवैधानिक इतिहास
👉 कंप्यूटर से संबंधित प्रश्न उत्तर
👉 ब्रह्मांड और सौरमंडल Q&A


3. Definition of philosophy ( दर्शन की परिभाषा )


दोस्तों हम यह कह सकते हैं कि दर्शन शास्त्र की विचारधारा बहुत ही पुरानी है. जो कि दो शब्दों से मिलकर बनी है. "दर्शन" + "शास्त्र" -- दर्शनशास्त्र का अर्थ होता है -- "देखना" अर्थात जीवन और जगत के प्रति दृष्टिकोण रखना.

Philosophy the meaning
Philosophy meaning  


दोस्तों मानव जब से इस संसार में आया है. तब से वहां अलग अलग प्रश्नों को जानने और समझने की कोशिश कर रहा है. कि मानव के जन्म कारण, उद्देश्य और विभिन्न संबंधों को समझना चाहता है. किसी को हम दार्शनिकता कहते हैं.

दोस्तों हम यह कह सकते हैं कि दर्शन का अर्थ क्या है, वह दर्शन ज्ञान को व्यक्त करता है. और दोस्तों गहराई से समझने के लिए हम दर्शन की कुछ परिभाषाएं ( Definition of philosophy ) यहां दे रहे हैं जिनको ध्यान से पढ़ें.-----

1. R. W. सेलर्स = " दर्शन एक व्यवस्थित विचार द्वारा विश्व and मनुष्य की प्रकृति के विषय में ज्ञान प्राप्त करने का यंत्र प्रयत्न है "

2. बरटेर्ड रसेल = " अन्य विधाओं के अनुसार दर्शन का मुख्य उद्देश्य ज्ञान की प्राप्ति हैं "

3. जॉन D. V. के अनुसार = "जब कभी दर्शन के ऊपर गंभीरतापूर्वक विचार किया गया है तो यही निश्चय हुआ है कि दर्शन ज्ञान प्राप्ति का महत्त्व प्रकट करता है जो ज्ञान जीवन के आचरण को प्रभावित करता है."

4. डॉ राधाकृष्णन = "दर्शन वास्तविकता की स्वरूप तर्कसंगत खोज है"

5. कांट = "दर्शन ज्ञान का विज्ञान और आलोचना है"

6. Fichte = "दर्शन ज्ञान का विज्ञान है"

7. हेंडर्सन = "दर्शन कुछ अत्यंत कठिन समस्याओं का कठोर नियंत्रण और सुरक्षित विशेषण है इसका मनुष्य सामना करता है"

8. ब्राइट मैन = दोस्तों ब्राइटमेन दर्शन की परिभाषा कुछ विस्तृत दी है " दर्शन की परिभाषा एक ऐसे प्रयत्न के रूप में दी जाती हैं जिसके द्वारा संपूर्ण मानव अनुभूतियों के विषय में सत्यता से विचार किया जाता है अर्थात जिसके द्वारा हम अपने अनुभवो द्वारा अपने अनुभवों का वास्तविक सार जानते हैं"

दोस्तों इन सभी परिभाषा ओं के आधार पर हम यह कह सकते हैं कि दर्शनशास्त्र एक ऐसा विज्ञान हैं जो मानव जीवन और प्रकृति की वास्तविकता को जानने तथा समझने का प्रयास करते हैं.


💝💜भारत के राष्ट्रपति को याद रखने की ट्रिक💔💖

प्रकृति दर्शन शास्त्र की प्रकृति को समझना अन्य शास्त्रों की तुलना में सभी से अलग है. इसमें दर्शन शास्त्री मानव जीवन  तथा जगत की व्याख्या करने का प्रयास करता है.


4. Branches of philosophy ( दर्शन की शाखाएं )


दोस्तों अब हम बात करते हैं दर्शन की शाखाओं के बारे में. दोस्तों दर्शन का अध्ययन क्षेत्र बहुत व्यापक है. हकीकत में दर्शन के अध्ययन क्षेत्र में संपूर्ण सृष्टि or ब्रह्मांड और उसकी संपूर्ण क्रियाओं की वास्तविक खोज है. और दूसरे शब्दों में दर्शन को संपूर्ण मानव जीवन को दर्शन का क्षेत्र या दर्शन की शाखाएं माना जा सकता है. अतीत काल में दर्शन में साहित्य, धर्म, कला, विज्ञान, इतिहास आदि विषय आते थे. लेकिन आधुनिक काल में दर्शन का अध्ययन क्षेत्र या शाखाओं का विभाजन समस्याओं के आधार पर किया जाता है इस प्रकार से दर्शन का अध्ययन क्षेत्र / शाखाएं निम्नलिखित हैं-----

Philosophy meaning
Philosophy meaning  


1. Epistemology ( ज्ञान मीमांसा )
2. Axiology ( मूल्य मीमांसा )
3. Metaphysics ( तत्व मीमांसा )

Read more
🔴🔵राजनीति विज्ञान के प्रश्न उत्तर 🔵🔴

1. Epistemology ( ज्ञान मीमांसा ) = 

दोस्तों ज्ञान मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में एपिस्तेमोलॉजी ( epistemology ) कहते हैं. जो 2 शब्दों episteme - जिसका अर्थ है "ज्ञान" और logy जिसका अर्थ है "विज्ञान" इन दोनों शब्दों से मिलकर बना है epistemology. जिसका अर्थ हुआ ज्ञान का विज्ञान. शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम J.F. फेरीवर ने किया था.

 दोस्तों ज्ञान मीमांसा के अंतर्गत ज्ञान, उसके स्वरूप, उसके प्रकार, उसकी उत्पत्ति, उसका विकास, उसका लक्ष्य, उस की प्रमाणिकता, उसकी सीमा, उसकी सत्यता, जाता इन सभी विषयों का इसमें चिंतन किया जाता है. ज्ञान मीमांसा को प्रमाण मीमांसा भी कहते हैं. सही ज्ञान को "प्रमा" कहते हैं एवं जिसके द्वारा ज्ञान प्रकट होता है उस उसे "प्रमाण" कहते हैं. और प्रत्येक भारतीय दर्शन ने प्रमाण की संख्या पर अपना मत अलग-अलग रूप में प्रकट किया है-----  चार्वाक दर्शन प्रत्यक्ष को ही एकमात्र प्रमाण मानता है. बौद्ध और वैशेषिक ----- अनुमान और प्रत्यक्ष को ही प्रमाण मानते हैं. एवं दोस्तों जैन, योग एवं सांख्य ने  शब्द, अनुमान और प्रत्यक्ष को ही प्रमाण माना है. यहां ने उपमान, अनुमान, प्रत्यक्ष and शब्द आदि को प्रमाण माना है. And मीमांसा , अद्वैत वेदांत ने उपमान, प्रत्यक्ष, शब्द, अनुमान, अर्था पति और उपलब्धि को प्रमाण माना है.


👉 भूगोल के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर
👉 Geography Q&A

2. Axiology  ( मूल्य मीमांसा )


दोस्तों आइए अब हम बात करते हैं मूल्य मीमांसा ( axiology )  के बारे में महत्वपूर्ण क्या है मूल्य मीमांसा के बारे में.
दोस्तों मूल्य मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में ( axiology ) अक्सियोलॉजी कहते हैं. जो दो शब्द axios से बना है जिसका अर्थ होता है ---  " मूल्य " value and logy ( लोजी ) जिसका अर्थ है " विज्ञान " science. और इस प्रकार axiology  ( अक्सियोलॉजी ) का अर्थ हुआ ---- science of value  ( मूल्य का विवाह विज्ञान ).
इसके अंतर्गत मूल्यों का स्वरूप, उसका ज्ञान, विश्व के साथ उसके संबंध आदि विषयों पर चिंतन किया जाता है.

दोस्तों मूल्य मीमांसा के अंतर्गत मुख्य रूप से तीन विषय शामिल किए जाते हैं -----
A. Logic ( तर्कशास्त्र )
B. Aesthetic  ( सौंदर्यशास्त्र )
C. Ethics ( आचार मीमांसा )

A. Logic "तर्कशास्त्र" = दोस्तों तर्कशास्त्र को हम अंग्रेजी भाषा में लॉजिक ( logic ) कहते हैं. दोस्तों तर्कशास्त्र में है तर्क को विकसित करने की विधियों और तर्क के प्रकारों के बारे में अध्ययन किया जाता है. इसके अंतर्गत तर्क, तर्क करने के सिद्धांत, तर्क  की विधियां, तरकी की प्रणालियां और उसकी सत्यता आ सकता पर विचार-विमर्श किया जाता है.
और तर्कशास्त्र में खास बातें हैं. कि तर्कशास्त्र निर्णय की विवेचना करता है. मनुष्य के निर्णय प्रमाणित है या प्रमाणित इसकी जांच तर्कशास्त्र ही करता है.

B. Aesthetic "सौंदर्यशास्त्र" 

सौंदर्य शास्त्र को अंग्रेजी भाषा में "AESTHETIC" कहते हैं. इस का सर्वप्रथम प्रयोग A.G. बामघटीन ने किया था. और इसके अंतर्गत सौंदर्य का स्वरूप, सौंदर्य अनुभूति, उसका अस्तित्व, उसकी वास्तविकता, उसका महत्व सौंदर्य अनुभव का अन्य अनुभव के साथ संबंध आदि का चिंतन किया जाता है.

C. Ethics "आचार मीमांसा" 

आचार मीमांसा को अंग्रेजी में "ETHICS" कहते हैं. दोस्तो आचार्य मीमांसा को नीति शास्त्र ही कहते हैं. यह समाज और किसी व्यक्ति विशेष के बारे में अच्छे बुरे कर्मों पर चिंतन करते हैं. और दोनों के लिए नैतिकता अनैतिकता का मापदंड प्रस्तुत करता है.

3. Metaphysics  ( तत्व मीमांसा ) ----- 

 तत्व मीमांसा को अंग्रेजी भाषा में metaphysics कहते हैं. जो दो ग्रीक शब्दों meta and physics से मिलकर बना है. Meta का मतलब होता boyand ( परे ) है और physics का मतलब होता है nature  ( प्रकृति ). अर्थात metaphysics का मतलब हुआ "प्रकृति से परे" या "प्रकृति से परे क्या है"
अतः इस खोज का अध्यन करने वाले शास्त्र या भविष्य ही metaphysics  ( तत्व मीमांसा ) है. और सर्वप्रथम मैटेफिजिक्स शब्द का प्रयोग एंड्रू निकस नामक विद्वान ने किया था.
तत्व विज्ञान में आत्मा, जगत और ईश्वर की चर्चा होती हैं. तत्व मीमांसा का अर्थ सदैव वास्तविकता के तत्व की खोज करना. इसके अंतर्गत आत्मा, ईश्वर, मनुष्य, प्रकृति, जन्म- मरण, सृष्टि आदि की वास्तविकता को जानने का प्रयास किया जाता है.

इन सभी विषयों का अध्ययन तत्व मीमांसा के अंतर्गत होता है.
( A ) आत्मा संबंधित तत्व ज्ञान. " metaphysics of soul "
( B ) ईश्वर संबंधित तत्व ज्ञान. " Theology "
( C ) सत्ता शास्त्र. " Ontology "
( D ) विश्व शास्त्र. " Cosmology "


 जीवन के प्रति दृष्टिकोण :----- दोस्तों सभी लोगों का जीवन जीने का अपना सिद्धांत होता है. एवं उस जीवन को जीने की एक प्रक्रिया होती है.
Examples :-- A महात्मा गांधी अपने जीवन में सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चले यह उनका जीवन दर्शन था.
B. मदर टेरेसा ने जीवन भर दूसरे लोगों की सेवा की यहीं उनका जीवन दर्शन था.

अभिप्राय = दर्शनशास्त्र का अर्थ ( philosophy meaning )खोज करना मानव जीवन ईश्वर और दृश्य जगत तत्वों की जानकारी प्राप्त करना है कि जीवन क्या है, और जीवन का क्या उद्देश्य है, इन सभी का उत्तर मिलता है हमें इन सभी कारणों में. कहा गया है की दर्शन की जीवन की कठिन समस्याओं का हलहल निकलने का प्रयास करता है. यह हमारे जीवन को अनुशासित करता है. दुनिया के बहुत से महापुरुषों ने जीवन और जगत के विभिन्न पहलुओं पर मंथन किया है और ज्ञान अर्जित किया यही ज्ञान प्राप्त करना दर्शनशास्त्र ( philosophy ) हैं.

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं आज की हमारी यहां पोस्ट philosophy meaning ( philosophy का अर्थ ) philosophy the Meaning आपको पसंद आई होगी. इस पोस्ट में philosophy the meaning हमने इन सभी विषय पर बात की है. philosophy meaning ( दर्शन का अर्थ ), philosophy the meaning. Philosophy examples ( दर्शन के उदाहरण ), definition of philosophy, ( दर्शन की परिभाषा), Branches of philosophy दर्शन की शाखाएं.
philosophy meaning | allthebestgk philosophy meaning | allthebestgk Reviewed by All the best gk on जून 05, 2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Comment us

Blogger द्वारा संचालित.